Ellie and Buddy

Ellie and Buddy

एक समय की बात है, जंगल के ह्रदय में, एक एली हाथी नाम की हाथी रहती थी। वह बड़ी थी, मीठी ग्रे त्वचा और कान जैसे जहाज के ढाल थे। एली सबसे सामंती जानवर थी, लेकिन वह भी बहुत अकेली महसूस करती थी। जंगल की सुंदरता और उसमें रहने वाले मित्रपूर्ण जानवरों के बावजूद, एली एक सच्चे दोस्त की तलाश में थी।

Ellie and Buddy

वहीं, कुछ दूर, जंगल के किनारे एक छोटे से घर में, एक बड़ा नाम का कुत्ता रहता था। बड़ा छोटा और फ्लफी था, लहराती पूंछ और उज्ज्वल, जिज्ञासु आंखों वाला। वह जंगल का अन्वेषण करना पसंद करता था, तितलियों को पीछा करना और अपने मानव परिवार के साथ फैलना। लेकिन गहरे अंदर, बड़े को भी अकेलापन की एहसास होता था।

एक धूपछाँव वाले दिन, जब एली जंगल में घूम रही थी, तब उसने दूर से एक मुस्कुराहट की आवाज सुनी। उत्सुकता से भरी, उसने आवाज का पीछा किया जब तक वह एक छोटे मैदान तक न पहुंची, जहां उसने बड़े को एक कंटे वाले झाड़ी में फंसा पाया। उसका पूंछ दुख से झुका हुआ था।

“अरे, मेरे प्यारे दोस्त, तुम ठीक हो?” एली ने पूछा, अपनी मजबूत सूंड से बड़े को सावधानी से छुड़ाते हुए।

बड़ा चौंक कर देखा, “मैं-मैं ठीक हूँ,” उसने डर के साथ कहा, अभी भी उस बड़े हाथी के सामने है।

उस पल से ही, एली और बड़े ने असाधारण दोस्ती की शुरुआत की। वे जंगल को खोजने, खेलने के खेलने, और अपने जीवन के किस्से साझा करने के लिए अपने दिनों को बिताते थे। एली बड़े को अपनी पीठ पर ले जाती थी, उसे दुनिया की बातों का एक अंदरूनी दृष्टिकोण देती थी, जबकि बड़े एली को जंगल के घने वन में ले जाता, उसकी अच्छी सूंदरी के साथ उसे दिखाता था।

एली और बड़े

उनकी मित्रता न केवल खुद को ही नहीं, जंगल के सभी जानवरों को खुशी भी देती थी। पंछी उनकी दोस्ती के गीत गाते, बंदर खुशी से चहचहाते थे, और बड़े शेरों और बाघों को भी ऐसे असाधारण दोस्ती के दृश्य में हंसी आती थी।दिन अंत में बड़े और बड़े की बातों में परिणाम स्वरूप बनते हैं। वे एक दूसरे को कुशलता, साहस, और दोस्ती के सच्चे अर्थ के बारे में मूल्यवान सबक सिखाते थे।

और इसी तरह, जंगल के दिल में, ऊंचे पेड़ों और गूंजते हुए रोऐ के बीच, एली हाथी और बड़ा कुत्ता सिद्ध किया कि कभी-कभी सबसे असाधारण दोस्तियां वे होती हैं, जो सबसे अधिक आनंद लाती हैं। क्योंकि हर एक में, वे एक दोस्त नहीं बल्कि जीवन के एक संगी खोज लिया था।

और तब एक दिन, जब एली और बड़े खुशी-खुशी खेल रहे थे, तब उन्हें एक नई मित्रता की ओर देखने का मौका मिला। एक बड़ी सुंदरता से सजीव बिल्ली, जिसकी चमकदार आंखें थीं और बड़े-बड़े कान थे, उनके सामने खड़ी थी।

“नमस्ते, मेरे प्यारे दोस्तों,” बिल्ली ने कहा, एक खिलौना माउस लेकर खेलते हुए।

एली और बड़े को बड़ी प्रेम से उसका स्वागत किया। “नमस्ते, बिल्ली दोस्त,” बड़े ने कहा, जबकि एली उसे एक अपने बड़े पैर से झूला दिया।

बिल्ली हँसी। “धन्यवाद, लेकिन मैं इस खेल के लिए कहाँ आई हूँ?” उसने पूछा।

“हमारी जंगल की नई मित्रता बनने के लिए!” बड़े ने उत्साहपूर्वक कहा।

बिल्ली खुश हो गई। “वाह! मुझे यह काफी अच्छा लगा।”

उन तीनों ने फिर मिलकर उत्साह के साथ खेलना शुरू किया। बिल्ली जंगल में बहुत तेजी से चल सकती थी, जिससे एली और बड़े को उसकी सुंदरता का अनुभव होता था। उसने उन्हें अपनी कुशलता से दिखाने का प्रस्ताव किया, जबकि वह मौसम के लिए एक छोटा माउस छुपाने की कोशिश कर रहा था।

उनकी मित्रता ने उन्हें और जंगल के अन्य जानवरों को भी एक साथ लाया, और उन्होंने एक-दूसरे के साथ हर छोटी-बड़ी समस्या का सामना किया।

इस प्रकार, जंगल में एली, बड़े, और बिल्ली की मित्रता ने सभी जीवों के दिलों को छू लिया और उन्हें सिखाया कि जितना असाधारण उनका संबंध था, उतना ही अधिक वहाँ की खुशी बढ़ी।जब कीचड़ की मद्दहत से गहरी चोट के बावजूद एली और बड़े खेल रहे थे, तभी एक दुखद संदेश उन्हें छू गया। एली को बहुत बुरी चोट आई थी। वह पड़ी और हिल नहीं पाई। बड़े उसके पास धावने लगा, लेकिन एली ने सिर्फ मुस्कुराहट दिखाई।

“मेरे प्यारे बड़े, मुझे जानना है कि मेरे आगे कुछ नहीं है। मेरा समय आ गया है।” एली ने कहा, बड़े के पास आँसू भरे आंखों के साथ।

“नहीं, एली, तुम ठीक हो जाओगी। हम तुम्हें ठीक कर देंगे,” बड़े ने उत्साहित करते हुए कहा, लेकिन उसके अंदर कुछ अनहित सा था।

बिल्ली भी वहाँ थी, और उसने भी अपनी चिंता व्यक्त की। “एली, हम तुम्हारे साथ हैं। हम तुम्हें कोई नहीं छोड़ेंगे,” उसने कहा, उसकी आंखों में भी आँसू थे।

लेकिन एली ने नम्रता से उनका हाथ पकड़ा और कहा, “धन्यवाद, मेरे प्यारे दोस्तों। तुमने मेरे जीवन को खास बनाया। मैं तुम्हें हमेशा याद रखूंगी।”

उसके आंसू बह गए, और फिर एक बार उसकी आंखें बंद हो गईं। एक अविश्वसनीय चुप्पी छाई। उसके प्राण अंत हो गए।

जंगल में गहरी शोक की लहर छाई। एली के चले जाने के साथ ही उसकी अनूठी मित्रता का भी समापन हो गया। लेकिन उसकी स्मृति और उसकी महानता हमेशा जीवित रहेगी। और उसने दिखा दिया कि असली मित्रता कभी मरती नहीं है।

जंगल में एली के चले जाने के बाद, एली की अभावित मौजूदगी ने जंगल को एक गहरे उदासी से भर दिया। बड़े और बिल्ली, दोनों ही उसकी यादों में डूबे रहे। उन्होंने उसके साथ बिताए हर पल को याद किया, और उन्हें यह याद करके उसके लिए श्रद्धांजलि अर्पित की।

उनकी दुखभारी भावना से प्रेरित, बड़े, बिल्ली, और अन्य जंगल के जानवरों ने मिलकर निर्धारित किया कि वे एली की याद में कुछ करें। उन्होंने एक साथ मिलकर जंगल के आधुनिक भाग में एक बड़ा पेड़ लगाने का निर्णय किया। यह पेड़ एली की याद में स्थायित होगा, उसकी महानता का प्रतीक होगा।

उन्होंने विशेषज्ञ जंगल वृक्ष विद्यालय के सहायता से पेड़ को लगाया और साथ में एक छोटा सा स्मृति स्थल स्थापित किया। इस स्थल पर, जंगल के जानवर एली के साथ बिताए गए सुखद पलों को याद करेंगे।

जंगल ने एक बार फिर से उसकी सभी वास्तविकता के साथ संघर्ष किया, लेकिन अब वह अपनी मित्रता और एली के प्रेरणादायक उदाहरण को याद करता था। उसकी यादों में एली देश बदलकर भी उसके दोस्तों के दिलों में बसी रहेगी।

जंगल में विराजमान नए पेड़ ने एली की याद में एक अमिट श्रद्धांजलि का स्थान बना लिया, और वहाँ से जंगल के जानवर हमेशा उसके महानता को याद करेंगे।

एली की श्रद्धांजलि स्थल के निर्माण के बाद, जंगल में एक अचानक ही घटना हुई। एक चालाक लोमड़ी, जिसका नाम फॉक्स था, ने यह देखा कि लोग इस स्थल को बहुत महत्व दे रहे हैं। उसने सोचा कि वह इसका लाभ उठा सकता है।

फॉक्स ने एक योजना बनाई और रात के समय चुपचाप आक्रमण किया। वह एली की श्रद्धांजलि स्थल के पास पहुंचा और उसके चारों ओर धार बांध दी।

सुबह होते ही, जंगल के जानवर अपने हृदय की आवाज खोजने के लिए उस स्थल पर गए, लेकिन उन्हें हैरानी की बात हुई। फॉक्स की चालाकी के कारण, उन्हें अब एली की याद करने के लिए एक स्थान ही नहीं मिला।

बड़े, बिल्ली, और अन्य जंगल के जानवर बहुत नाराज थे। उन्होंने जल्दी से फॉक्स की चालाकी को पहचान लिया और एली की श्रद्धांजलि स्थल को पुनः बनाने का निश्चय किया।

उन्होंने साथ मिलकर फॉक्स की चालाकी को असफल किया और एली की याद में उस स्थल को पुनः स्थापित किया। यह एक महत्वपूर्ण सबक सिखाता है कि दोस्ती और समर्थता सभी चुनौतियों को पार कर सकती हैं, और जंगल के जानवरों ने यह साबित किया कि वे एक-दूसरे के साथ होकर हर मुश्किल का सामना कर सकते हैं।

फॉक्स को उसकी पहली योजना की असफलता से बड़ा धक्का लगा, लेकिन वह हार नहीं माना। उसने फिर से नई चालाकी की सोची।

एक दिन, फॉक्स ने जंगल के पास एक नदी के किनारे एक पुराने गुफा में एक छोटा सा मेहमानदारी बाला रखा। उसने यह सोचा कि वह इस गुफा में दूसरे जंगली जानवरों को अपने पास आकर्षित कर सकता है, और उन्हें अपनी चालाकी के चक्कर में फंसा सकता है।

फॉक्स ने गुफा को खूबसूरती से सजाया और उसे आकर्षक बनाने के लिए गुफा के आसपास फूलों और वनस्पतियों से सजावट की। फिर, उसने अपनी योजना की प्रारंभिक चरण के रूप में, गुफा के पास बैठक के लिए बुलाया।

जंगल के जानवरों को यह नया स्थान बहुत पसंद आया। वे फॉक्स के गुफा में बैठक का आनंद लेने लगे। फॉक्स ने उन सभी को अच्छे से संभाला और खुश रखा, और उन्हें अपनी बुद्धिमत्ता से फसाने के लिए चुकाने की योजना बनाई।

इस प्लान के तहत, फॉक्स ने जंगल के जानवरों को धीरे-धीरे उसकी जाल में फंसाया। उसने धीरे-धीरे उनको उसकी चालाकी के चक्कर में फंसाया और उनको अपने अधीन किया।

फॉक्स की इस नई चालाकी से, जंगल के जानवरों को अब एक और मुश्किल सामना करना पड़ा। वह अपने मित्रों के साथ मिलकर एक नया योजना बनाने के लिए तैयार हो गए।

जंगल के जानवरों ने फॉक्स की चालाकी का पता लगाया और उनकी योजना को रोकने का निर्णय किया। उन्होंने मिलकर एक उच्च स्थान पर एक गगनचुम्बी पराक्रम आयोजित किया।

एक साता के रूप में, बड़े, बिल्ली, और अन्य जानवर फॉक्स के गुफा के पास पहुँचे। उन्होंने एक साथ काम किया, और एक जाल बनाया जो फॉक्स को उसकी खोखली योजना से बाहर निकाल देगा।

जब फॉक्स ने अपनी गुफा में अपनी नई मित्रता के साथ बैठक की, तो उन्हें एक अचानक आवाज सुनाई दी। वे चौंके हुए थे कि उनकी योजना का खुलासा हो गया है।

जंगल के जानवरों ने फॉक्स को उसकी चालाकी का पर्दाफाश किया और उसे गुफा से निकालने के लिए उसके खिलाफ आवाज की। फॉक्स डर कर भागने की कोशिश की, लेकिन जानवरों का उसके चालाकी के खिलाफ तैयार किया गया जाल उसे फंसा लिया।

फॉक्स की चालाकी की खोज में जंगल के जानवरों ने साथ मिलकर एक सबक सिखाया कि दोस्ती और सहायता हमेशा चालाकी और धोखे के खिलाफ जीतती है। फॉक्स को समझाया गया कि अच्छाई और सच्चाई हमेशा उत्कृष्टता की ओर ले जाती हैं, और उसने अपनी गलती समझी और माफी मांगी।

जंगल में फॉक्स की यह घटना सभी को सिखाया कि एकता और भरोसा हमेशा अधिक महत्वपूर्ण होता है चालाकी से और धोखे से।

जंगल में फॉक्स की चालाकी के बाद, जंगल के जानवरों के बीच और भी अधिक समर्था और एकता का माहौल बढ़ा। उन्होंने समझा कि उनकी सहायता और सामर्थ्य केवल उनकी दोस्ती में ही नहीं बल्कि पूरे जंगल की सुरक्षा और प्रगति में भी महत्वपूर्ण है।

फॉक्स ने अपनी गलती से सीखा और वह अब जंगल के साथी बन गया। वह उनकी समर्था का सहारा बना और उनकी मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहता था।

जंगल के जानवरों ने एक-दूसरे के साथ साझा किए गए सीखों को ध्यान में रखते हुए एक नया अधिक उत्कृष्ट जीवन बिताने का निर्णय किया। उन्होंने एक-दूसरे के साथ उनकी कमियों को पूरा किया और जंगल के विकास में साथ मिलकर काम किया।

जंगल के जानवरों की एकता और सहायता ने उन्हें और अधिक मजबूत बना दिया। अब उन्हें किसी भी चालाक या धोखाधड़ी से नहीं डरना था, क्योंकि वे जानते थे कि उनकी एकता और सहयोग उन्हें हमेशा सफलता की ओर ले जाएगी।

जंगल में फॉक्स के साथ हुई इस घटना ने सबको यह बताया कि दोस्ती, साथीत्व और सहयोग हमेशा बेहतरीन रास्ता होता है। यह उन्हें आगे बढ़ने के लिए नई सोच और सामर्थ्य प्रदान किया।

Read More Story On www.foodillusions.com